Sanskrit Shabd Roop DHWANI Pulling | संस्कृत शब्द रूप ध्वनि पुल्लिंग

ध्वनि पुल्लिंग शब्द रूप की पूरी जानकारी 

ध्वनि शब्द रूप संस्कृत Sanskrit Shabd Roop DHWANI Pulling : संस्कृत भाषा में ध्वनि के अनेक रूप होते हैं। ध्वनि को अंग्रेजी में DHWANI meaning in english (SOUND) कहते हैं। ध्वनि को आवाज ही कहते हैं। अन्य जो भी सभी बालक जैसे हैं उन सभी के रूप इसी प्रकार बनाते है। आप ध्वनि का शब्द रूप DHWANI Shabd Roop in Sanskrit ध्यानपूर्वक नीचे देख सकते हैं। DHWANI shabd roop in Sanskrit आप अनेक प्रकार के और शब्द रूपों के बारे में जान सकते हैं। आप सभी शब्द रूप की व्याख्या, प्रकार और सम्पूर्ण जानकारी भी पृष्ठ पर नीचे देख सकते हैं।

ध्वनि पुल्लिंग शब्द रूप संस्कृत भाषा में DHWANI shabd roop Pulling

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा ध्वनिः ध्वनी ध्वनयः
द्वितीया ध्वनिम् ध्वनी ध्वनीन्
तृतीया ध्वनिना ध्वनिभ्याम् ध्वनिभिः
चर्तुथी ध्वनये ध्वनिभ्याम् ध्वनिभ्यः
पन्चमी ध्वनेः ध्वनिभ्याम् ध्वनिभ्यः
षष्ठी ध्वनेः ध्वन्योः ध्वनीनाम्
सप्तमी ध्वनौ ध्वन्योः ध्वनिषु
सम्बोधन हे ध्वने हे ध्वनी हे ध्वनयः
sanskrit shabd roop 

शब्द रूप का सम्पूर्ण वर्णन What is Shabd Roop?

किसी वाक्य की सबसे छोटी इकाई को शब्द कहा जाता है। शब्दों के कई रूप होते हैं (संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण आदि)। व्याकरण में, वाक्य के अन्य शब्दों और क्रियाओं को छोड़कर अन्य पदों को नाम कहा जाता है। इस प्रकार, किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान, भावना (क्रिया) आदि को निरूपित करने वाले शब्दों को संज्ञा कहा जाता है। sanskrit shabd roop DHWANI striling.

ये शब्द संस्कृत भाषा में प्रयुक्त होने वाले ‘पद्य’ के रूप में प्रयुक्त होते हैं। संज्ञा, सर्वनाम इत्यादि जैसे शब्दों को बनाने के लिए इनका उपयोग पूर्वसर्ग के रूप में किया जाता है, दूसरा, आदि इन शब्दों (पदों) का उपयोग (खींचना, खींचना) और पुल्लिंग, स्त्रीलिंग, नपुंसक लिंग और एकवचन, द्वंद्वात्मक और बहुवचन) में विभिन्न रूपों में होता है। इन्हें आमतौर पर शब्द कहा जाता है।
सात भक्ति हैं जो संज्ञा आदि में निहित हैं। विभक्ति के रूप जिन्हें इन व्यक्तियों के तीन छंदों (एक, दो, अनेक) में बने रूपों के लिए पाणिनि द्वारा परिकल्पित किया गया है, उन्हें ‘सपु’ कहा जाता है।

शब्द क्या है?

एक या एक से अधिक वर्णों से बनी हुई स्वतंत्र सार्थक ध्वनि ही शब्द कहलाती है।

व्युत्पत्ति के आधार पर शब्द के भेद

रूढ़ शब्द- वे शब्द जो किसी अन्य शब्द के योग से नहीं बनते हैं 
और एक विशेष अर्थ को प्रकट करते हैं और जिनके टुकड़ों का कोई अर्थ नहीं होता है
उन्हें रुद्र कहा जाता है। क, ल, प, र को काटते समय इनका कोई अर्थ नहीं है। 
इसलिए वे अर्थहीन हैं।
यौगिक- कई सार्थक शब्दों के मेल से बने शब्दों को यौगिक कहा जाता है। 
जैसे - देवालय = देव + आलय, राजपुरुष = राज + पुरुष, हिमालय = हिम + आलय,
 देवदूत = देव + दूत आदि ये सभी शब्द दो सार्थक शब्दों के मेल से बने हैं।

योगरूढ़-  वे शब्द, जो यौगिक हैं, लेकिन सामान्य अर्थ को प्रकट नहीं करते हैं, 
और किसी विशेष अर्थ को प्रकट करते हैं, योगरूढ़ कहलाते हैं। 
जैसे पंकज, दशानन आदि।

उत्पत्ति के आधार पर शब्द-भेद

तत्सम- संस्कृत भाषा के शब्द तत्सम कहलाते हैं। जैसे-अग्नि, क्षेत्र, वायु, ऊपर, रात्रि, सूर्य आदि।

तद्भव- जो शब्द रूप बदलने के बाद संस्कृत से हिन्दी में आए हैं वे तद्भव कहलाते हैं। जैसे-आग (अग्नि), खेत (क्षेत्र), रात (रात्रि), सूरज (सूर्य)नृप ,(राजा)आदि।

देशज- जो शब्द क्षेत्रीय प्रभाव के कारण परिस्थिति व आवश्यकतानुसार बनकर प्रचलित हो गए हैं वे देशज कहलाते हैं। जैसे-पगड़ी, गाड़ी, थैला, पेट, खटखटाना आदि।

विकार के आधार पर शब्द के भेद

1. विकारी  शब्द: जो शब्द बदलते रहते हैं उन्हें विकारी शब्द कहते हैं। जैसे – कुत्ता, कुत्ता, कुत्ता, मैं, मुझे, हम, हम खाते हैं, खाते हैं, खाते हैं। इनमें संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण और क्रिया विकारी शामिल हैं।

2. अविकारी शब्द: जिन शब्दों में कभी कोई परिवर्तन नहीं होता है, उन्हें आवकारी शब्द कहते हैं। यहाँ की तरह, लेकिन, दिनचर्या और, हे आदि इनमें विशेषण, विशेषण, संयोजन, और विस्मयादिबोधक आदि शामिल हैं।

अर्थ के आधार पर शब्द के भेद

सार्थक शब्द : जिन शब्दों का कुछ-न-कुछ अर्थ हो वे शब्द सार्थक शब्द कहलाते हैं। जैसे-रोटी, पानी, ममता, डंडा आदि।

निरर्थक शब्द : जिन शब्दों का कोई अर्थ नहीं होता है वे शब्द निरर्थक कहलाते हैं। जैसे-रोटी-वोटी, पानी-वानी, डंडा-वंडा;इनमें वोटी, वानी, वंडा आदि निरर्थक शब्द हैं। निरर्थक शब्दों पर व्याकरण में कोई विचार नहीं किया जाता है।

अन्य सभी शब्द रूप

shabd roop sanskrit

RELATED WORDS

HINDI-

ध्वनि शब्द रूप पुल्लिंग,
ध्वनि शब्द का अर्थ,
ध्वनि शब्द रूप हिंदी में,
ध्वनि शब्द का स्त्रीलिंग,
ध्वनि शब्द का पर्यायवाची,
ध्वनि शब्द का बहुवचन,
ध्वनि शब्द शब्द रूप,
ध्वनि शब्द रूप संस्कृत,
ध्वनि का शब्द रूप,
ध्वनि पुल्लिंग,
ENGLISH-

DHWANI shabd ka arth,
DHWANI meaning in english,
DHWANI shbd ka paryayvachi,
DHWANI shabd roop sanskrit,
DHWANI shabd roop,
DHWANI shabd roop napunsak ling,
sanskrit DHWANI shabd in odia,
DHWANI shabd roop,
DHWANI shabd roop striling,
DHWANI shabd roop in sanskrit,
fal shabd roop,
muni shabd roop,
DHWANI shabd roop,
lata shabd roop,
DHWANI shabd roop,
ram ka roop,
DHWANI shabd roop in sanskrit,
shabd roop (akarant),
sangya shabd roop in sanskrit,
pustak shabd roop in sanskrit,
DHWANI shabd roop,
mala shabd roop in sanskrit,
DHWANI ka shabd roop in hindi,
DHWANI shabd roop striling,
mati shabd roop in sanskrit,
sadhu shabd roop,
muni shabd roop in sanskrit,
asmad shabd roop,
lata shabd roop in sanskrit,
vari shabd roop,
DHWANI shabd roop in sanskrit with meaning,
DHWANI table in sanskrit,
shabd roop of DHWANI,
lata shabd roop in sanskrit,
path shabd roop in sanskrit,
DHWANI shabd roop napunsak ling,
DHAWNI shabd roop striling,
shabd rupani hari,
aam ka shabd roop,
ukarant napunsak ling shabd roop,
shabd roop of DHWANI,
class 6 sanskrit shabd roop DHWANI,
shabd roop of lata,
mahila shabd roop,
vidyalaya ka shabd roop in sanskrit,
guni table in sanskrit,
bhagini sanskrit table,
shabd roop of muni,
kalika shabd roop,
[ajax_load_more id=”2740077813″ post_type=”post” posts_per_page=”10″ post_format=”standard” category__and=”2842″ category__not_in=”220″ author=”2″]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *